सौरभ सिंह सोमवंशी
प्रतापगढ़

अलीगढ़ के जिला अधिकारी चंद्र भूषण सिंह की पत्नी है अंजना सिंह सेंगर

इस बार हिंदुस्तानी एकेडमी उत्तर प्रदेश प्रयागराज की तरफ से प्रादेशिक स्तर पर वर्ष 2020 में प्रकाशित पुस्तकों पर दिए जाने वाले सम्मान फिराक गोरखपुरी सम्मान से अंजना सिंह सेंगर को सम्मानित किया गया है।इस अवसर पर श्रीमती सेंगर को सम्मान स्वरूप 01 लाख रुपये की धनराशि प्रदान की गई।मशहूर श्रीमती सेंगर को यह सम्मान उनकी पुस्तक “अगर तुम मुझसे कहा देते” के लिए दिया गया, अंजना की इस पुस्तक में इसमें 54 गजल, 7नज्म,15 मुक्तक हैं। उनकी इस पुस्तक का उर्दू प्रकाशन भी हो चुका है अंजना सिंह सेंगर ने यह धनराशि नक्सली हमले में शहीद जवानों के परिजनों को देने की घोषणा की है ।

कौन हैं अंजना सिंह सेंगर?

अंजना सिंह सेंगर मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड स्थित जालौन के लिटावली की है यही पर उनका जन्म 1972 में हुआ। इसके बाद उनकी शिक्षा-दीक्षा वर्तमान में प्रयागराज स्थित इलाहाबाद विश्वविद्यालय से हुई जहां से उन्होंने आधुनिक इतिहास विषय से डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त की इसके भारत की सर्वश्रेष्ठ परीक्षा सिविल सेवा परीक्षा पासकर कुछ दिनों तक केंद्र सरकार को सेवा देने के बाद स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले लिया इसके बाद वह साहित्य जगत में आ गई वर्तमान में वह लेखन के साथ-साथ
ओज व श्रृंगार की कविताएं भी पढ़ा करती हैं। देश के साथ साथ विदेशों में भी जहां जहां पर हिंदी बोली जाती है वहां पर वह कविता पाठ करने के लिए आमंत्रित की जाती है। अंजना सिंह सेंगर के द्वारा लिखित काव्य संग्रह मन के पंख की प्रस्तुति छात्रों के द्वारा जब एक कार्यक्रम में की गई तब लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के द्वारा भी उसकी भूरी भूरी प्रशंसा की गई थी दुबई में लिटरेरी एक्सीलेंस अवार्ड से सम्मानित अंजना नमामि गंगे पर भी गीत लिख चुकी है इसके अलावा अंजना सिंह सेंगर कई शिक्षण संस्थानों अंजना पॉलिटेक्निक, बद्रीनारायण ग्रुप आफ इंस्टीट्यूशंस, चंद्रा एजुकेशनल ट्रस्ट, बद्रीनारायण भी एड कॉलेज के अलावा संस्कार ग्लोबल स्कूल की प्रबंधक भी हैं।
श्रीमती अंजना सिंह सेंगर का जन्म बुंदेलखंड में भले ही हुआ, परंतु आज वह अवध स्थित जनपद प्रतापगढ़ के मूल रूप से रहने वाले और अलीगढ़ में जिला अधिकारी के पद पर तैनात चंद्र भूषण सिंह की धर्मपत्नी है। और नोएडा में रहती हैं। और चंद्रभूषण सिंह अलीगढ़ में तैनात हैं। इस तरह से यह कहा जा सकता है कि अंजना सिंह सेंगर का जुड़ाव उत्तर प्रदेश के पश्चिमांचल बुंदेलखंड और अवध तीनों से ही है।
अंजना सिंह सेंगर उत्तर प्रदेश का एक ऐसा नाम है ख्याति देश-प्रदेश में दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। जनहित को समर्पित चन्द्र की चमक लिए अंजना के मुखारबिन्दु से जो शब्द जन्म ले रहे हैं उनसे अलीगढ़ जालौन प्रतापगढ़ जैसे जनपद का नाम देश-प्रदेश ही नहीं विदेशों में भी रोशन हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *